Cg tourism दर्शनीय स्थल छत्तीसगढ़

onakona temple mandir ओना कोना मंदिर कैसा है, सम्पूर्ण जानकारी।

Onakona temple chhattisgarh

ओना कोना मंदिर onakona temple छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है और यह नवनिर्मित मानव कृत मंदिर है जहां पर मंदिर के चारों ओर विभिन्न देवी देवताओं की चित्र उकेरी गई है।

Onakona temple ओना कोना मंदिर कहां स्थित है?

यह मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य की बालोद जिले में स्थित है बालोद से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर एक छोटा सा गांव कोना-कोना नाम से बसा हुआ है दरअसल ओना कोना नाम एक गांव का नाम है। ओनाकोना गांव में मंदिर निर्माण होने के कारण उस मंदिर का नाम ही ओना कोना मंदिर onakona temple कहा गया।

onakona temple ओना कोना मंदिर हालांकि बालोद जिले के अंतर्गत आता है परंतु धमतरी जिला धमतरी से ज्यादा करीब है धमतरी रेलवे स्टेशन से महज 35 किलोमीटर की दूरी सफर करने पर onakona temple (mandir) कोना कोना गांव पहुंचा जा सकता है।

Onakon Mandir NH-30 रायपुर – बस्तर मार्ग मे धमतरी से लगभग 35 किलोमीटर एवं राजधानी रायपुर से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जहां ओना कोना गाँव है वहीं ओना कोना मंदिर onakona temple है I यह मंदिर कला का नायाब नमूना एवं सुंदरता की अनोखी छटा है I

Onakona village छत्तीसगढ़ के एक कोने में बसा है ओना कोना मंदिर एक भव्य मंदिर, कहा जाता है कि ये गंगरेल बांध का आखरी छोर भी है I onakona temple मंदिर बलोद जिले के गुरूर विकासखंड के अंतर्गत आता है, यह मंदिर भगवान शिव के नाम पर समर्पित मंदिर।

ओना कोना मंदिर onakona temple आने वाले दिनों में छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा खूबसूरत पिकनिक स्पॉट व पर्यटन स्थल में गिना जाएगा। ओनाकोना को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए बालोद जिला प्रशासन काफी मेहनत कर रही है।

ओना कोना मंदिर किसने बनवाया onakona temple

ओना कोना मंदिर को धमतरी शहर के एक व्यवसायी तीरथ राज फुटान के द्वारा बनवाया जा रहा है। इस मंदिर को हाल ही में बनवाया गया है और आज भी ओना कोना मंदिर onakona temple के निर्माण का कार्य चल रहा है। ओना कोना मंदिर अलावा भी आस पास एक मजार व मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम जी की छोटी सी मंदिर भी है।

ओना कोना गांव गंगरेल बांध का एक छोर होने के अलावा यह गंगरेल का डुबन इलाका भी है इसलिए मंदिर के आस पास यहा पर पुरे साल भर पानी रहता है। ओना कोना मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, यही कारण है के इसे त्रयंबकेश्वर मंदिर भी कहते है। यहा की मूर्तिकला प्राचीन मंदिरों के जैसा खूबसूरती बिखेरी है।

मंदिर के संस्थापक तीरथराज फुटान की माने तो यह मंदिर महाराष्ट्र के नासिक में स्थित श्री त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग धाम की तरह बनाया जा रहा है। जैसा नजारा नासिक में दिखाई देता है वैसा ही निर्माण करने का प्रयास किया जा रहा है।

उद्देश्य

मंदिर निर्माण का उद्देश्य यही है कि गरीब परिवार जो आर्थिक स्थिति से कमजोर होने के कारण नासिक तीर्थ यात्रा पर नहीं जा पाते, वे यहां ओनाकोना आकर दर्शन का लाभ ले सकते है। आपको नासिक यहां के जैसा अनुभव हो सकता है।

onakona temple history

सूफी संत ने की थी तपस्या

ओना कोना गांव वालों के मुताबिक यहां पर कई वर्षों पहले सूफी संत ( बाबा फरीद ) आए थे उन्होंने यहां बैठ कर तपस्या की थी तब से यहां पर एक धुनी जलाई गई है, जो कि आज भी निरंतर जल ही रही है।

कहा जाता है कि ओना कोना onakona temple आने वाले और उन पर आस्था रखने वाले लोगों की मुरादें पूरी होती है यहां पर एक मजार का भी निर्माण किया गया है जो मंदिर के काफी करीब है।

ओना कोना कैसे पहुंचे onakona temple road map

सड़क मार्ग:-

ओना कोना तक पहुंचने के लिए पक्की सड़क आपको आसानी से मिल जायेगी जिससे आप अपने वाहनों के माध्यम से पहुंच सकते हैं। यह धमतरी शहर से लगभग 30-35 किलोमीटर व राजधानी रायपुर से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है |

रेल मार्ग:-

ओना कोना मंदिर जाने के लिए धमतरी में रेल मार्ग की भी सुविधा है धमतरी रेलवे स्टेशन से ओना कोना गांव की दूरी लगभग 30 किलोमीटर है।

हवाई मार्ग :-

raipur to onakona temple

अगर आप हवाई यात्रा के माध्यम से ओना कोना मंदिर जाना चाहते हैं तो सबसे निकटतम हवाई अड्डा है रायपुर हवाई अड्डा है जिसकी दूरी लगभग 110 किलोमीटर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker